अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो ये व्यायाम करें।

   मानसिक तंदुरस्ती के लिए कई प्रकार की एक्सरसाइज कर सकते है | जो मन को शांत करने में मदद करता है | तनाव को कम करने के लिए नीचे दिए गए व्यायाम को करे | आजकल बच्चो से लेकर बुढ़ापे वाले भी मोबाईल का इस्तेमाल करते है | मोबाईल के कुछ फायदे है और कई प्रकार के नुकशान है | अगर आप अधिक समय तक फ़ोन का उपयोग करते है, तो मानसिक हेल्थ पर बुरा असर पड़ता है | मोबाईल का जरुरत से ज्यादा वपराश ना करे | कई लोग फ़ोन से अपने लक्ष्य की शरुआत करते है | इसमे दुनियाभर की माहिती मौजूद है | 

मानसिक तंदुरस्ती ( mental health)

            मोबाईल का वपराश कैसे करना है, ये आपके ऊपर निर्भर है | इससे आप अच्छे भी बन सकते है ओए बुरे भी बन सकते है | फोन की आदत नहीं पड़नी चाहिए | वरना इसका बुरा परिणाम मिलता है | आप डिप्रेशन के शिकार हो जाते है | मानसिक स्वास्थ्य ( mental health ) के लिए मोबाईल का उपयोग जरुरत से ज्यादा ना करे | मानसिक स्वास्थ्य बेहतर करने के लिए ये व्यायाम जरुर करे |

1. योगा ( Yoga )

         योग मानसिक हेल्थ को सुधारने में महत्वपूर्ण है | योग करने से मानसिक शांति, स्थिरता और आत्म-संयम को बढाने में सहाय करते है | मानसिक तंदुरस्ती के लिए नीचे दिए गए योग करे |

  • शवासन 
  • पद्मासन 
  • वृक्षासन
  • उत्तानासन 
  • ध्यान 

      ये योग आप मानसिक हेल्थ के लिए करे | इनसे मानसिक शांति, स्थिरता, तनाव कम करता है वगेरे फायदे मिलते है | रोजाना योग को करते है, तो आपके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होने लगता है |

2. प्राणायाम ( Pranayama )

         प्राणायाम मानसिक तंदुरस्ती के लिए फायदेमंद है | ये श्वास-प्रश्वास करने की तकनीक है, जो प्राणिक शक्ति को नियत्रित करने में मदद करता है | मन को शांति, स्थिरता और आत्म-संयम को बढ़ावा देते है | मन को स्वस्थ रखने के लिए आप इन प्राणायाम को करे |

  • अनुलोम-विलोम प्राणायाम 
  • भ्रामरी प्राणायाम 
  • उज्जायी प्राणायाम 
  • शीतली प्राणायाम 
  • ब्रामरी प्राणायाम 

          मन को ताजगी प्रदान करने के लिए आप इन प्राणायाम को करे | जिनसे मन को शांति मिलती है | और मानसिक तनाव को कम करने में मदद करता है | 

3. ध्यान ( Meditation )

        ध्यान एक प्रक्रिया है, जो मानसिक हेल्थ के लिए फायदेमंद है | ध्यान में मन को एकाग्र करना होता है | सिर्फ अपने श्वास पर ध्यान देना होता है | और आत्मा की अवस्था में अमर्पित होते है | मानसिक चिंताओं दूर करने, तनाव कम करने, मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए मदद करते है | 

        नियमित ध्यान करने से अधिक लाभ मिलते है | आप जिस जगह ध्यान करते है, वह जगह शांत होनी चाहिए | तभी आपका मन एकाग्र होगा |

4. व्यायाम ( Exercise ) 

          दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम महत्वपूर्ण है | रोजाना व्यायाम करने से शरीर को कई प्रकार के लाभ मिलते है | जैसे की स्ट्रेस कम करने में, आत्मविश्वास को बढाने में, खुशियों का अहसास कराने में, नींद में सुधार, तनाव कम करने में, मानसिक शांति के लिए आदि एक्सरसाइज के फायदे है | 

        इस तरीके से आप मानसिक स्वास्थ्य को सुधार सकते है | 

मानसिक स्वास्थ्य के लिए योगा

मानसिक, शारीरिक और आत्मिक स्वास्थ्य के लिए योगा फायदेमंद होता है | प्राचीन भारतीय परंपरा में योगा समाविष्ट है | अपनी जीवनशैली में नियमित योग करने से मानसिक स्वास्थ्य को सुधार सकते है | मन को शांत करने के लिए योग मदद करता है | सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है | में आपको इस लेख में योगा मानसिक स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद है ?

1. उच्च सोच की क्षमता

          योग के अभ्यास से मानसिक शक्ति और उच्च सोच की क्षमता में बढ़ोतरी होती है | जीवन में आने वाली समस्याओं से लड़ने की शक्ति मिलती है | लेकिन आपको योग का रोजाना अभ्यास करना होगा | सकारात्मक विचारों उत्पन्न होते है | और नकारात्मक विचारों से दूर रखते है | दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए योग का अभ्यास करना चाहिए |

2. मानसिक तनाव कम करता है |

          मानसिक तनाव को कम करने के लिए योग सहायक बनता है | ध्यान और शवासन जैसे योग तनाव को कम करने में मदद करते है | दिमाग को शांति प्रदान करने में बहुत फायदेमंद होता है | जीवन में योग का अभ्यास करना जरुरी है |

3. स्थिर मानसिक स्थिति

          दिमाग को शांत करने में योग सहाय करते है | मानसिक स्थिति को स्थिर करने के लिए योग का अभ्यास आवश्यक है | योगासन और प्राणायाम के अभ्यास से मानसिक चंचलता को कम कर सकते है | मानसिक स्थिति को शांत करने में मददगार बनता है | 

4. निरोगी मानसिकता 

        मानसिक रोगों से बचने के लिए योग का अभ्यास करना चाहिए | बीमारियों से लड़ने की शक्ति प्रदान करते है | अति चिंता करने वालो के लिए योग का अभ्यास जरुरी है | जिनसे वो दिमाग को शांत कर सके | योग करने से शरीर में ख़ुशी के हार्मोन भी उत्पन्न होते है | 

मानसिक स्वास्थ्य के लिए योग

  • शवासन 
  • पद्मासन 
  • वृक्षासन
  • उत्तानासन 
  • ध्यान 

          योगा मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने का एक प्रमुख तरीका है | इसके अभ्यास से जीवन में सकारात्मक, संतुलन और शांति को प्राप्त कर सकता है | मानसिक स्वास्थ्य के साथ यह शारीरिक स्वास्थ्य को भी सुधारने में सहायक है।

योग अध्यात्मिकता और शारीरिक सुख का अनुभव

 प्राचीन भारतीय इतिहास में योग का वर्णन किया गया है | योग एक धार्मिक और दार्शनिक पध्धति है | जिसका उदेश्य मन, शरीर और आत्मा को संतुलित रखता है | 

       योग संस्कृत शब्द “यूज” से निकला है | जिसका मतलब एकीभवन या संयोजन होता है | इनका का मुख्य उदेश्य मन को शांत करना और विचारों को नियत्रित करना है | आसन (शरीर के योगिक पोज), ध्यान(मन की निगरानी),  प्राणायाम (श्वास के नियंत्रण), और समाधि (संपूर्ण एकाग्रता) ये मुख्य अंग है | 

        स्वास्थ्य सुधार, तनाव को कम होना, ध्यान बढ़ाना, और आध्यात्मिक विकास योग से होता है | यह शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्तर को बढाता है | सकारात्मक विचारों भी प्रदान करते है

योग करने के लाभ

1. शारीरिक लाभ 

         शरीर की मासपेशियों को मजबूत और संतुलित करता है | शारीरिक रोगों को भी कम करता है | 

2. मानसिक लाभ 

         ध्यान और प्राणायाम के अभ्यास से मानसिक तनाव कम होता है और मानसिक चंचलता भी कम होती है | योग मन को शांति प्रदान करता है | 

3. स्वास्थ्य सुधार 

           पेट संबंधी समस्यां को ठीक करने में मदद करता है | साथ ही अनिंद्रा को कम करता है |

4. मनोवृति को सुधार 

      सकारात्मक विचारो के लिए योग बहुत जरुरी है | ये मनोवृति को सही दिशा में परिवर्तित करता है | 

5. आत्मिक विकास 

       आध्यात्मिक सबंधो को योग मजबूती प्रदान करता है | मन को शांति और संतुष्टि प्रदान करता है |

           जीवन गुणवता को सुधारने के लिए अभ्यास करना जरुरी है | 

योग करने का नियम

  • सुबह या शाम के समय अभ्यास करे |
  • अभ्यास से पहले स्नान जरुर करे |
  • खली पेट अभ्यास करना चाहिए | आरामदायक कपडे पहने | 
  • अभ्यास करते समय सकारात्मक विचार होना जरुरी है |
  • किसी शांत ओर सोफ़ वातावरण में अभ्यास करे |
  • अपना पूरा ध्यान मन पर केन्द्रित होना चाहिए |
  • शरीर के साथ जबरदस्ती नहीं करना है | 
  • धेर्य और द्रढता से करना है | 
  • लाभ मिलने में वक्त लगता है इसीलिए धीरज रखे |
  • नियमित अभ्यास करना जरुरी है |
  • अभ्यास करने के बाद आधे घंटे तक कुछ नहीं खाना |
  • अभ्यास करते समय कोई मेडिकल परेशानी आए तो डॉक्टर से सलाह ले | 
  • योगाभ्यास समाप्त होने के बाद शवासन जरुर करे |

योग के प्रकार

1. राज योग 

         इस में आठ अंग शामिल है | यम(शपथ लेना), नियम(आचरण का पालन), आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार(इन्द्रियों का नियत्रण), ध्यान, धारणा(एकाग्रता) और समाधि(अंतिम मुक्ति) यह आठ अंग है | आत्मविवेक और ध्यान करने के लिए आकर्षित करता है |

2. कर्म योग 

      अपना जीवन निःस्वार्थ भाव से जीते है और अन्य जिव जी सेवा करते है तो ये सेवा का मार्ग है | इसका सिध्धांत है की आज जो भी हम अनुभव करते है वो हमारे कार्यो का अतीत बनाया गया है | 

3. भक्ति योग 

      हमारे शरीर में भक्ति से सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है | ये एक भक्ति का मार्ग है | 

4 ज्ञान योग 

        सबसे कठिन ज्ञान को माना जाता है | क्योकि इनमें विस्तार से अध्ययन करना पड़ता है | बौधिक रूप से इच्छुक है वही ज्ञान को प्राप्त कर सकते है | 

Leave a Comment